SHARE THIS POST:

SWR की कार्य योजना हुबली स्टेशन को यात्री के अनुकूल बनाने में मदद करती है।

हुबली स्टेशन (स्टेशन रोड की तरफ) के दक्षिण भाग को टर्मिनल -I के रूप में नामित किया गया है और सभी तीन प्रवेश / निकास गेट -1, गेट -2 और गेट -3 के रूप में दिए गए हैं।

SWR की कार्य योजना हुबली स्टेशन को यात्री के अनुकूल बनाने में मदद करती है।

दक्षिण पश्चिम रेलवे (SWR) रेलवे स्टेशनों को अपने अधिकार क्षेत्र में 'यात्री अनुकूल' बनाने के लिए एक कार्य योजना लेकर आया है। सेवा में पहले स्टेशन बिल्डिंग को टर्मिनलों के रूप में नामित कर रहा है और भौगोलिक दिशाओं के अनुसार स्टेशन का नाम प्रत्यय दे रहा है। स्टेशन की इमारतों को टर्मिनल 1, टर्मिनल -2 आदि के रूप में नामित किया गया है ताकि आसान पहचान और संदर्भ को सक्षम किया जा सके।

स्टेशनों के विभिन्न प्रवेश / निकास बिंदु, जिनमें दो से अधिक प्रवेश / निकास द्वार हैं, गेट नंबर के साथ प्रदान किए गए हैं। प्लेटफार्म / प्रवेश / निकास द्वार की दिशा को इंगित करने के लिए फुट ओवर ब्रिज (एफओबी) पर दिशात्मक बोर्ड भी प्रदान किए गए हैं। यह पहल पहली बार दक्षिण पश्चिम रेलवे के हुबली डिवीजन के हुबली रेलवे स्टेशन पर लागू की गई है। इसे क्षेत्र के सभी प्रमुख स्टेशनों पर चरणबद्ध तरीके से बढ़ाया जाएगा।

हुबली स्टेशन (स्टेशन रोड की तरफ) के दक्षिण भाग को टर्मिनल -I के रूप में नामित किया गया है और सभी तीन प्रवेश / निकास गेट -1, गेट -2 और गेट -3 के रूप में दिए गए हैं। स्टेशन के उत्तर की ओर यानी गदग रोड को टर्मिनल - 2 और स्टेशन को प्रवेश यानि गडग रोड पर फुट ओवर ब्रिज को गेट नंबर - 4 के रूप में दिया गया है।

इस व्यवस्था से यात्रियों को स्टेशन पर आसान नेविगेशन के लिए सुविधा होगी, और यात्रियों को प्राप्त करने या देखने के लिए सार्वजनिक, कैब ड्राइवरों आदि का मार्गदर्शन करने के लिए भी। इससे रेलवे प्रशासन को अपने कर्मचारियों को सामान्य और साथ ही तत्काल संचार के लिए आपातकालीन स्थितियों में मार्गदर्शन करने में सुविधा होगी।
पोस्ट टैग्स :

Post a Comment

Note: Only a member of this blog may post a comment.

[disqus][facebook]

संपर्क फ़ॉर्म

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget