SHARE THIS POST:

कहीं आपका बैंकिंग डेटा लिक तो नहीं हो रहा, Android स्मार्टफोन का करें सावधानी से इस्तेमाल

क्या आपके फोन में कभी कोई फाइल या एप ऐसा है जिसको डाउनलोड करने के बाद आपके फोन हैंग होने की समस्या हुई हो? कई बार ऐसा होता है और कई बार नहीं। आपको यह जानना बेहद जरुरी है कि आजकल कई वायरस आपके फोन में गलत एप डाउनलोड करने की वजह से आ रहें हैं और कहीं न कहीं आपकी डेटा को लीक भी कर रहें हैं और आपको भनक तक नहीं लग रही है।



नई दिल्ली, नभास टाइम्स टेक: क्या आपके फोन में कभी कोई फाइल या एप ऐसा है जिसको डाउनलोड करने के बाद आपके फोन हैंग होने की समस्या हुई हो? कई बार ऐसा होता है और कई बार नहीं। आपको यह जानना बेहद जरुरी है कि आजकल कई वायरस आपके फोन में गलत एप डाउनलोड करने की वजह से आ रहें हैं और कहीं न कहीं आपकी डेटा को लीक भी कर रहें हैं और आपको भनक तक नहीं लग रही है। इसका मुख्य कारण है आपका एप्स डाउनलोड करना। जी हां हम आजकल किसी भी एप को अपने फोन में अगर डाउनलोड करते हैं तो हमें उसकी जानकारी नहीं होती कि आखिर वो फोन में क्या करेगा और कैसे काम करेगा या फिर क्या डेटा लेगा क्या डेटा नहीं लेगा। ऐसे ही कुछ एक वायरस भी कर रहा है जो किसी एप को इंस्टॉल करने के बाद आपके फोन में आ रहा है और फिर आपकी निजी जानकारी को लीक कर रहा है। लेकिन वायरस और ऐसे एप्स बनाने वाले लोग उस समय चौंक जाते हैं जब सिक्योरिटी रिसरचर्स इन वायरस का पता लगाकर इन्हें हमेशा के लिए हटा देते हैं।

लेकिन अब एक तरह का वायरस सिक्योरिटी रिसरचर्स की नजर में आया है जो ट्रेंड माइक्रो है। आपको जानकार हैरानी होगी की वायरस वाले इन एप्स का नाम करेंसी कनवर्टर और बैटरीसेवरमोबी है। ये दोनों एप्स उस वक्त भी काम करते हैं जब आप अपने फोन के साथ कहीं जाते हैं उसे कहीं रखते हैं या इधर से उधर करते हैं। लेकिन यहां सवाल भी उठता है कि ये चलते हुए भी कैसे आपको सेंस कर लेता है? आपको बता दें कि अगर किसी व्यक्ति के फोन से ये मोशन सेंसर जानकारी ले लेता है तो ये उस व्यक्ति के फोन में इंस्टॉल है तो वहीं अगर कोई मोशन सेंसर जानकारी नहीं है तो एप को आसाना से सिक्योरिटी रिसरचर्स पकड़ सकते हैं।

अगर एप्स मोशन को नहीं पकड़ पाते हैं तो ये नॉर्मल एप्स की तरह ही काम करेंगे। लेकिन अगर ये मोशन को डिटेक्ट कर लेते हैं तो आपके फोन में Anubis ट्रोजन वायरस आ जाएगा।

आपको बता दें कि ट्रोजन खुब द खुद आपके फोन में नहीं आता है बल्कि यूजर्स को ये कहा जाता है कि वो दोनों एप्स का अपग्रेडेड वर्जन डाउनलोड करें। इससे Anubis आ जाता है, इसके बाद ये आपको सिक्रेट डेटा को लीक करने का काम करता है। तो अगर ऐसा आपके साथ होता है तो ये आपके स्क्रीनशॉट। पासवर्ड, लॉगइन सबकुछ एक्सेस कर लेगा। ये वायरस आपको फोन के ऑडिया भी रिकॉर्ड कर सकता है।

Post a Comment

Note: Only a member of this blog may post a comment.

[disqus][facebook]

संपर्क फ़ॉर्म

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget